Delhi University: DU ने इन महत्वपूर्ण परिवर्तनों को अंजाम दिया, फीस में 90% प्रतिशत की छूट, वैदिक गणित की पढ़ाई और डीयू चुनाव.

Delhi University

Delhi University: DU ने इन महत्वपूर्ण परिवर्तनों को अंजाम दिया, फीस में 90% प्रतिशत की छूट, वैदिक गणित की पढ़ाई और डीयू चुनाव.

Delhi University

शुक्रवार, 25 अगस्त को दिल्ली विश्वविद्यालय कार्यकारी परिषद (EC) की 1267वीं बैठक हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण सिफारिशों पर विचार किया गया है, जिनमें वैदिक गणित की पढ़ाई, गरीब बच्चों की फीस में छूट और फाइन आर्ट्स में पीएचडी शामिल हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय ने आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों के लिए वित्तीय सहायता योजना के तहत फीस में 90% तक छूट देने का निर्णय लिया है। DUU की कार्यकारी परिषद (EC) की 1267वीं बैठक ने कई निर्णय लिए, जैसे कि वैदिक गणित में पीएचडी, फाइन आर्ट्स में पीएचडी और DUSU चुनाव में मतदान करने के लिए उम्र में 3 वर्ष की छूट।

शुक्रवार, 25 अगस्त को दिल्ली विश्वविद्यालय कार्यकारी परिषद (EC) की 1267वीं बैठक हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने बैठक की अध्यक्षता की। 17 अगस्त, 2023 को विश्वविद्यालय की वित्त समिति की बैठक में पेश की गई सिफारिशों पर भी विचार के बाद EC की बैठक में मंजूरी दी गई। इसके अलावा, भविष्य निधि, हॉल और छात्रावास, राष्ट्रीय पेंशन योजना और विश्वविद्यालय के गैर-लेखापरीक्षित वार्षिक खातों को वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए स्वीकार करके मंजूर किया गया। भवन निर्माण समिति की सुझावों को भी मंजूरी दी गई। इसके परिणामस्वरूप, वित्तीय वर्ष 2022–2023 के लिए कुछ विभागों का बजट अनुमान भी संशोधित किया गया।

These students will get 90% discount in fees

कुलपति ने बैठक के दौरान एक सदस्य द्वारा पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड लॉ की फीस पर पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में कहा कि विश्वविद्यालय की वित्तीय सहायता योजना में आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों के लिए शुल्क में 90% तक छूट दी गई है। उनका कहना था कि जिन विद्यार्थियों के माता-पिता की आय चार लाख रुपये से कम है, उन्हें शिक्षा शुल्क में ९० प्रतिशत छूट मिलेगी। जिन विद्यार्थियों के माता-पिता की आय चार से आठ लाख रुपये तक है, उन्हें फीस में चालीस प्रतिशत छूट मिलती है। कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड लॉ के विद्यार्थियों को लैपटॉप के लिए 50 हजार रुपये तक देगा।

Revision of rates of remuneration payable to employees

केंद्रीय मूल्यांकन केंद्रों (सीईएस) में लगे विभिन्न स्तरों के कर्मचारियों को देय पारिश्रमिक दरों में संशोधन के लिए गठित समिति की सिफारिशों को कार्यकारी परिषद ने भी मान्यता दी। इसी तरह, प्रैक्टिकल परीक्षाओं के संचालन के लिए देय पारिश्रमिक की दरों में बदलाव की अनुमति दी गई, और समिति ने यह भी स्वीकार किया कि “वार्षिक” शब्द को किसी भी स्थान पर “सेमेस्टर” के रूप में पढ़ा जा सकता है।

Self-learning material for SOL students as well

अकादमिक परिषद (AC) की 1015वीं बैठक 11 अगस्त को हुई, जिसमें सिफारिशों पर चर्चा हुई। इसके अलावा, अंडर ग्रेजुएट कुर्रीकुलम फ्रेमवर्क-2022 (UGCF-2022) के अनुसार चौथे, पांचवें और छठे सेमेस्टर के सिलेबस को कॉलेजों और विभागों के लिए स्वीकृति दी गई। EC की बैठक में यूजीसीएफ़-2022 के अनुसार दूरस्थ एवं सतत शिक्षा विभाग के अंतर्गत स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (SOL) के विद्यार्थियों के लिए स्व-शिक्षण सामग्री (एसएलएम) भी स्वीकार किया गया।

Registration fee reduced for reserved category students

परिषद ने यह भी फैसला किया कि एसओएल की स्व-शिक्षण सामग्री (एसएलएम) को विशेषज्ञों से समीक्षा दी जाएगी, अकादमिक परिषद के सदस्यों द्वारा दिए गए सुझावों को देखते हुए। अकादमिक परिषद की अगली बैठक में परिवर्तित या संशोधित एसएलएम प्रस्तुत किया जाएगा। शिक्षा सत्र 2023-24 के लिए एससी/एसटी और पीडब्ल्यूबीडी विद्यार्थियों के लिए पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड लॉ प्रोग्राम में पंजीकरण शुल्क को 1200 रुपये से 1000 रुपये कर दिया गया। यूजीसी के निर्णय के अनुसार, पीएचडी, गाइडिंग के संदर्भ में सीएएस के तहत पदोन्नति के लिए योग्यता मानदंड को भी अनुमोदित कर दिया गया। इसके तहत, योग्य स्थायी संकाय सदस्य पीएचडी स्कॉलर को अपनी परिवीक्षा अवधि के दौरान भी गाइड कर सकते हैं।

3 year exemption in dusu election

विभिन्न छात्र संघों ने मांग की है कि डूसू चुनावों में भाग लेने और मतदान करने की उम्र में तीन वर्ष की छूट दी जाए। इस वर्ष यूजी विद्यार्थियों की अधिकतम आयु सीमा २२ से २५ वर्ष तक और पीजी विद्यार्थियों की २५ से २८ वर्ष तक बढ़ा दी गई है। यह छुट्टी एक बार की होगी।

Vedic mathematics will be in the value addition course

मूल्य संवर्धन पाठ्यक्रम (VCE) समिति की सिफारिशों को मानते हुए, वैदिक गणित III, वैदिक गणित IV और वैक: राष्ट्रीय कैडेट कोर III मूल्य संवर्धन पाठ्यक्रमों को भी शैक्षणिक वर्ष 2022-2023 से लागू किया जाएगा। दिल्ली विश्वविद्यालय की अनुसंधान एंड डेवलपमेंट सेल (आरडीसी) की संगठनात्मक संरचना को सुधारने के लिए विभिन्न समितियों का गठन भी अनुशंसित किया गया। आरडीसी सलाहकार समिति में पाँच अलग समितियां होंगी।

Students will become competent through skill enhancement courses: Vice Chancellor

EC की इस बैठक में यूजीसीएफ-2022 के अनुरूप स्किल एनहांसमेंट कोर्सेज (SEC) के पेपर आधारित पाठ्यक्रमों की भी मंजूरी हुई। बेसिक ऑफ फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन, बेसिक ऑफ फोरेंसिक साइंस, बेसिक लैबोरेटरी टेक्निक्स, पब्लिक हेल्थ हाइजीन एंड न्यूट्रिशन, ला टेक्स टाइपसेटिंग फॉर बिगनर्स, मैथमेटिकल मॉडलिंग विद एक्सेल, फ़ाइनेंसियल मॉडलिंग विद एक्सेल, नेटवर्क फ्लोव्स, आर-शिनी: पावरफुल वेब एप्प्स फॉर एवरीवन, और स्पोकन पर्शियन: एलेमेंट्री कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने कहा कि इन कोर्सों के बाद विद्यार्थी खाद्य और औषधि मूल्यांकन केंद्रों में जगह पा सकेंगे। यही नहीं, वे स्वयं का उद्यम या व्यवसाय शुरू करने में भी सक्षम होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *