American Products: चना, सेब और मसूर दाल सस्ता होगा, आधा दर्जन अमेरिकी उत्पादों पर भारत ने अतिरिक्त शुल्क खत्म किया.

American Products

American Products: चना, सेब और मसूर दाल सस्ता होगा, आधा दर्जन अमेरिकी उत्पादों पर भारत ने अतिरिक्त शुल्क खत्म किया.

American Products

अब देश में चना, दाल और सेब सहित लगभग आधा दर्जन अमेरिकी उत्पादों पर से अतिरिक्त शुल्क हटाने से ये सामान सस्ता हो जाएगा। यह भी भारत के लिए लाभदायक है क्योंकि घरेलू इस्पात और एल्यूमिनियम उत्पादों को अमेरिकी बाजार में पहुंच मिलेगी। भारत अमेरिका का सबसे बड़ा व्यापारी है।

चना, दाल और सेब सहित लगभग आधा दर्जन अमेरिकी उत्पादों पर भारत ने अतिरिक्त शुल्क लगाए हैं। इससे यह सामान अब भारत में सस्ता हो जाएगा। 2019 में अमेरिका ने कुछ स्टील और एल्यूमीनियम उत्पादों पर टैरिफ बढ़ाने का निर्णय लिया था, जिसके बाद यह शुल्क लगाया गया था। उस समय 28 अमेरिकी उत्पादों पर कर लगाया गया था। यह कदम जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की भारत यात्रा से पहले उठाया गया है, जो 9 से 10 सितंबर को होगा।

Finance Ministry issued notification

5 सितंबर को वित्त मंत्रालय ने घोषणा की कि चना, दाल (मसूर), सेब, छिलके वाले अखरोट और ताजा या सूखा बादाम, छिलके वाले बादाम सहित अन्य उत्पादों पर शुल्क नहीं लगाया जाएगा। इन पर 7 से 20 रुपये प्रति किलो और 10 से 20 रुपये प्रति किलो का शुल्क लगाया गया था। Jun में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान, दोनों देशों ने छह World Trade Organization (WTO) विवादों को समाप्त करने और कुछ अमेरिकी उत्पादों पर प्रतिशोधात्मक शुल्कों को हटाने का निर्णय लिया।

Products will be available at affordable prices in the country

अब देश में चना, दाल और सेब सहित लगभग आधा दर्जन अमेरिकी उत्पादों पर से अतिरिक्त शुल्क हटाया जाएगा, जिससे ये वस्तुएं कम कीमत पर उपलब्ध होंगी। इसके अलावा, घरेलू इस्पात और एल्यूमिनियम उत्पादों को अमेरिकी बाजार में पहुंच मिलेगी, जो भारत को लाभदायक है। भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार अमेरिका है।

The government had given information in the Rajya Sabha

सरकार ने जुलाई में राज्यसभा में लिखित उत्तर देते हुए कहा कि बादाम (ताजा, सूखा या छिलके वाले), अखरोट, छोले, दाल, सेब और अन्य कुछ आयात पर प्रतिशोधात्मक सीमा शुल्क हटाने का निर्णय लिया है। साथ ही, भारत को अमेरिका से आयात शुल्क में कटौती से कोई नुकसान नहीं हुआ।

America is India’s largest trading partner

भारत अमेरिका का सबसे बड़ा व्यापारी है। द्विपक्षीय वस्तुओं का व्यापार 2022-23 में 128.8 अरब डॉलर था, जबकि 2021-22 में 119.5 अरब डॉलर था। भारत को इससे लाभ होगा क्योंकि घरेलू इस्पात और एल्यूमिनियम उत्पादों को अमेरिकी बाजार में पहुंच मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *